गन्ने का रस लीवर और किडनी के लिए होता है, इसका सेवन पीलिया रोग को खत्म करने में वरदान का काम करता है।

गन्ने के रस में आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और कई अन्य इलेक्ट्रोलाइट्स पाए जाते हैं, जो शरीर के निर्जलीकरण को खत्म करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

ब्राजील के बाद भारत दुनिया में सबसे ज्यादा गन्ना पैदा करता है। गन्ने से बनी चीनी और गुड़ के अलावा इसके रस का भी भरपूर सेवन किया जाता है। गन्ने का रस सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद है। इसमें बड़ी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं और संक्रमण को रोकने में भी मदद करते हैं। गन्ने के रस में चीनी, चीनी, आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और कई अन्य इलेक्ट्रोलाइट्स पाए जाते हैं, जो शरीर के निर्जलीकरण को खत्म करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

यह शरीर में प्रोटीन के स्तर को बढ़ाने के लिए भी काम करता है, साथ ही बुखार, संक्रमण आदि से लड़ने में हमारी मदद करता है। गन्ने का रस कई अन्य गंभीर बीमारियों में भी बहुत फायदेमंद होता है। आज हम आपको इसके कई फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं। गन्ने का रस मूत्रवर्धक होता है। यह शरीर के मूत्र क्षेत्रों में संक्रमण को रोकता है। इसके अलावा यह गुर्दे की पथरी को भी रोकता है।

किडनी का सही तरह से काम करने के लिए गन्ने का रस भी बहुत सहायक होता है गन्ने का रस एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है। यह हमारे लीवर को शक्ति प्रदान करता है। गन्ने के रस का सेवन पीलिया रोग के उन्मूलन में वरदान का काम करता है। पीलिया में, शरीर के तरल पदार्थों में लिवर के ठीक से काम न करने के कारण बिलीरुबिन की अधिकता होती है। इसकी वजह से हमारे शरीर की त्वचा पीली हो जाती है।

ऐसी स्थिति में गन्ने का रस शरीर में प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों की कमी को पूरा करता है, जो पीलिया से उबरने में मदद करता है। गन्ने के रस का ग्लाइसेमिक सूचकांक बहुत कम है, इसलिए यह मधुमेह के रोगियों के लिए सबसे अच्छी दवा है। इसमें बहुत सारे खनिज तत्व होते हैं, जिसके कारण यह दांतों की हर तरह की समस्या के लिए एक प्रभावी उपाय है। यदि आपकी सांसों से बदबू आती है, तो आपको गन्ने का रस लेना चाहिए। इससे जल्द ही बदबू से राहत मिलेगी।