ब्राह्मी मन की सेहत के लिए वरदान है, इसके और भी हैं कई फायदे

याददाश्त बढ़ाने के लिए ब्राह्मी सबसे अच्छी और प्रभावी दवा है।

आयुर्वेद में सभी प्रकार के रोगों का पूर्ण इलाज है। आयुर्वेद ने प्राकृतिक दवाओं के उपयोग से कई असाध्य रोगों को ठीक करने में सफलता पाई है। इन प्राकृतिक दवाओं में से एक ब्राह्मी है। ब्राह्मी को 'ब्रेन बूस्टर' के नाम से भी जाना जाता है। यह अपने आप गीली मिट्टी पर उगता है। इसमें छोटे बैंगनी या सफेद फूल भी होते हैं, जिनमें अधिकांश पाँच पंखुड़ियाँ होती हैं। फूलों सहित इस पौधे का उपयोग एक औषधि के रूप में किया जाता है। ब्राह्मी याददाश्त बढ़ाने का एक बेहतरीन उपाय है।

यह मस्तिष्क के तीन पहलुओं, अल्पकालिक स्मृति, दीर्घकालिक स्मृति और स्मृति को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आज हम आपको ब्राह्मी के कई अन्य फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।
1. ब्राह्मी को कोर्टिसोल के स्तर को कम करने के लिए जाना जाता है, जो एक तनाव हार्मोन है। इसका उपयोग तनाव और चिंता को कम करने के लिए किया जाता है। यह तनाव के प्रभावों को खत्म करने का काम करता है।

2. ब्राह्मी में अमाइलॉइड यौगिक की उपस्थिति के कारण, यह अल्जाइमर रोग में बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा यह मस्तिष्क को अल्जाइमर से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करता है।
3. ब्राह्मी में एंटी-ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो स्वस्थ जीवन के लिए बहुत जरूरी है। यह शरीर के उन तत्वों को जड़ से काम करता है जो कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि में मदद करते हैं।
4. ब्राह्मी के नियमित सेवन से पाचन संबंधी समस्याएं भी दूर होती हैं, और पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है।

5. गठिया से राहत पाने के लिए ब्राह्मी सबसे अच्छा नुस्खा है। इसके साथ ही यह गैस्ट्रिक अल्सर और आंत्र सिंड्रोम से बचाने में भी हमारी मदद करता है।
6. ब्राह्मी शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में भी महत्वपूर्ण योगदान देती है। इसके साथ ही यह हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षणों से राहत दिलाने में भी सहायक है।
7. ब्राह्मी के इस्तेमाल से बालों में रूसी या खुजली की समस्या को भी ठीक किया जा सकता है। ब्राह्मी का उपयोग सभी प्रकार की सौंदर्य समस्याओं में औषधि के रूप में किया जाता है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं।