पायरिया रोग को ठीक करने के लिए घरेलू उपचार भी संभव हैं

पायरिया को लेकर लोगों में यह धारणा है कि इसका कोई इलाज नहीं है, जबकि इसका इलाज संभव है।

पायरिया दांतों की एक गंभीर समस्या है। दांतों की ठीक से सफाई न करने के कारण पायरिया आसानी से लोगों को अपना शिकार बना लेता है। ऐसे मामलों में, दांतों में दर्द, मसूड़े की सूजन, दांतों की संवेदनशीलता आदि की शिकायतें सामने आती हैं। पायरिया से समय से पहले दांत खराब होने का खतरा होता है। सांसों की बदबू, दो दांतों के बीच जगह का बनना, कमजोर और हिलते दांत भी पायरिया के मुख्य लक्षण हैं। आमतौर पर इस बीमारी को इतनी गंभीरता से नहीं लिया जाता है लेकिन अगर समय रहते इसका इलाज न किया जाए तो यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या में बदल सकती है।

दुनियाभर में पायरिया के कई मरीज हैं। इस बीमारी को लेकर लोगों में यह धारणा है कि इसका कोई इलाज नहीं है, जबकि इसका इलाज संभव है। दरअसल, हमारे मुंह में लगभग 700 प्रकार के बैक्टीरिया पाए जाते हैं, जो हमें मुंह और दांतों की कई बीमारियों से बचाते हैं। दांतों की ठीक से सफाई न करने के कारण ये बैक्टीरिया हमारे दांतों और मसूड़ों को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं। इसके कारण, शरीर की हड्डियों को बहुत नुकसान होता है जो दांतों का समर्थन करते हैं। इससे बचने के लिए दांतों की नियमित सफाई जरूरी है। जीभ साफ करने के साथ जीभ की सफाई भी बहुत जरूरी है।

रोजाना दो बार ब्रश करने की आदत आपको पायरिया से दूर रखेगी। इसके अलावा, पायरिया के इलाज के लिए कुछ घरेलू उपचार भी इस्तेमाल किए जा सकते हैं। पायरिया के लिए लौंग को मुख्य औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह तैलीय संक्रमण को रोकता है। थोड़ी मात्रा में लौंग का तेल लें और इसे दांतों पर हल्के से ब्रश करें। दांतों के लिए भी प्याज एक अच्छी औषधि है। प्याज को काटें और इसे तवे पर हल्का गर्म करें और फिर इसे दांत के नीचे दबाएं और मुंह बंद करें। इसे 10-12 मिनट के लिए छोड़ दें।

यह मुंह में बहुत अधिक लार का कारण होगा, जो पायरिया को जड़ से खत्म करने में मदद करेगा। नीम की पत्ती को सुखाकर किसी बर्तन में रखकर जलाएं। इसके राख को छानने के बाद इसमें सेंधा नमक मिलाएं। सेंधा नमक की मात्रा राख की मात्रा के बराबर होनी चाहिए। इस चूर्ण का तीन या चार बार नियमित रूप से लेप करने से पायरिया की समस्या दूर हो जाएगी। इसके अलावा एक चम्मच नारियल का तेल मुंह में डालकर पानी की तरह रोल करने से भी पायरिया की समस्या से छुटकारा मिलता है।