घर का बना काजल आँखों के लिए अच्छा और सस्ता होता है

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार, काजल में बड़ी मात्रा में लेड पाया जाता है जो बच्चों के लिए बहुत खतरनाक है। यह एनीमिया, गुर्दे की समस्याओं और संख्यात्मक समस्याओं का कारण बन सकता है।

आंखें शरीर का सबसे संवेदनशील हिस्सा हैं। आंखों के मेकअप के लिए काजल का इस्तेमाल सदियों से किया जाता रहा है। काजल के इस्तेमाल से आंखें बड़ी और खूबसूरत दिखती हैं। इसके अलावा काजल का औषधीय महत्व भी है। काजल आँखों को ठंडक देता है और दृष्टि बढ़ाता है। पहले के समय में, काजल घरों में तैयार किया जाता था। आज भी कई घरों में काजल प्राकृतिक विधि से बनाया जाता है, लेकिन फिर भी रसायनों की मदद से बने काजल का उपयोग भी काफी बढ़ गया है।

घर में बने काजल में रसायन आदि का उपयोग नहीं किया जाता है, इसलिए आंखों की सेहत के लिए ऐसा काजल बहुत जरूरी है। ये काजल कम कीमत पर घर पर बनाया जाता है। प्राकृतिक तत्वों से बने होने के कारण, वे न केवल सौंदर्य प्रसाधन के रूप में उपयोग किए जाते हैं, बल्कि उनका उपयोग नेत्र चिकित्सा के लिए भी किया जाता है। इन्हें बनाने का तरीका भी बहुत मुश्किल नहीं है। इन्हें थोड़ा समय देकर आसानी से बनाया जा सकता है। बाजार में मिलने वाले केमिकल युक्त काजल से आंखों के संक्रमण का खतरा हो सकता है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार, काजल में बड़ी मात्रा में सीसा पाया जाता है। यह बच्चों के लिए बहुत खतरनाक है। यह एनीमिया, गुर्दे की समस्याओं और संख्यात्मक समस्याओं का कारण बन सकता है। खराब काजल के अत्यधिक उपयोग से मृत्यु हो सकती है। इसलिए, घर का बना काजल का उपयोग आंखों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा और सुरक्षित है। इसे घर पर बनाने के लिए सरसों के तेल को रूई की बत्ती से दीपक में रखकर जलाया जाता है। इसके बाद पूरी रात के लिए इसकी आंच पर एक तांबे का पात्र रखा जाता है।

सुबह में, प्लेट पर संग्रहीत कालिख को स्क्रैप किया जाता है और एक बॉक्स में रखा जाता है। अब इसमें देशी घी की कुछ बूंदें मिलाई जाती हैं और इसका पेस्ट तैयार किया जाता है। फिर आप इसे अपनी आंखों के लिए उपयोग कर सकते हैं। काजल का भारत में धार्मिक महत्व भी है। इसका उपयोग लोगों को बुरी आत्माओं और बुरी नज़र से बचाने के लिए एक ट्रिक के रूप में भी किया जाता है। यह भारत और अफ्रीका में लोगों द्वारा सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।