एलोवेरा में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो, बवासीर जैसी गंभीर बिमारियों का इलाज कर सकता है

अगर बवासीर का सही समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे बहुत दर्द होता है, अगर आप भी परेशान हैं, तो इससे छुटकारा पाने के लिए इस घरेलू उपाय का पालन करें। आजकल के लोगों में बवासीर की समस्या आम है। यह ज्यादातर 45 और 65 साल के लोगों में होता है। यह मलाशय के आसपास की नसों में सूजन के कारण होता है। इसके लिए हमारी जीवनशैली को दोषी माना जाता है, क्योंकि यह समस्या अधिक बैठने, शरीर को कम सक्रिय रखने, पेट खराब होने और बिना किसी शेड्यूल के किसी भी तरह के भोजन को खाने से होती है। बवासीर के दो प्रकार होते हैं, एक खूनी बवासीर जो गुदा से भी निकलता है और दूसरा बवासीर है जो गुदा के आसपास खुजली, जलन और दर्द का कारण बनता है। अगर इसका सही समय पर इलाज न किया जाए तो यह बेहद दर्दनाक हो सकता है। ऑपरेशन के जरिए भी इससे छुटकारा पाया जा सकता है। लेकिन हम आपको कुछ ऐसे घरेलू टिप्स बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप घर पर ही इलाज कर सकते हैं।

बर्फ – यह बवासीर में अपनाया जाने वाला पहला घरेलू उपचार है। यह नसों में सूजन को कम करता है और दर्द से तुरंत राहत प्रदान करता है। इसके लिए बर्फ के कुछ टुकड़ों को कपड़े में लपेटकर गुदा पर प्रतिदिन 10 मिनट के लिए लगाएं, इससे कुछ ही दिनों में आपको आराम मिलेगा।

एलोवेरा- यह खूनी और अंधे दोनों बवासीर के लिए फायदेमंद है। यह खुजली और जलन से तुरंत राहत प्रदान करता है। इसके लिए एलोवेरा की पत्तियों को काटकर फ्रिज में रखें। ठंडा होने पर इसे लगाएं।

नींबू का रस- इसमें कई पोषक तत्व होते हैं जो बवासीर को ठीक करने में मदद करते हैं। इसके लिए रुई पर ताजा निकाला गया नींबू का रस लगाएं। इससे आपको थोड़ी देर के लिए जलन होगी, लेकिन इससे आपको जल्द ही आराम मिलेगा।

चाय की पत्ती – चाय की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें और इसे गर्म करके बवासीर के मस्सों पर लगाएं। इसे लगाने से दाने सूखने लगते हैं।

 

मेहंदी के पत्ते- मेंहदी के पत्तों को पानी के साथ पीसकर दाने पर लगाने से बीज अपने आप गिरने लगते हैं। साथ ही मेहंदी ठंडी होने पर भी जलन और खुजली में राहत देती है।

आंवला- बवासीर में आंवला बहुत फायदेमंद है। एक चम्मच आंवले के चूर्ण को शहद के साथ दिन में दो बार लेने से बवासीर के मस्सों में सूजन कम हो जाती है।