रोजाना 5-7 जामुन खाने से कई फायदे होते हैं, शुगर समेत कई बीमारियां दूर रहेंगी।

जामुन में ग्लूकोसाइड तत्व होता है, जिसे जाम्बोलन के रूप में जाना जाता है। इस तत्व का मधुमेह विरोधी प्रभाव होता है।
अगर आप ब्लड शुगर से परेशान हैं और आपने कई उपाय आजमाए हैं, लेकिन फिर भी आपको शुगर की परेशानी है, तो आप स्वाद के साथ-साथ शुगर को भी नियंत्रित कर सकते हैं। जी हाँ, जामुन जो स्वाद में अच्छा होता है, चीनी के साथ-साथ कई बीमारियों को नियंत्रण में रखता है और इसके कई फायदे हैं जिससे आप कई बीमारियों से दूर रह सकते हैं। आइए जानते हैं इन काले जामुनों से क्या फायदा होता है। ब्लड शुगर के लिए अचूक दवा- अगर आप ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए करेले का जूस नहीं पीना चाहते हैं, तो आप पारंपरिक चीनी जामुन का उपयोग कर सकते हैं। शोध में यह बात सामने आई है कि जामुन में ग्लूकोसाइड तत्व होता है, जिसे जंबोलन के नाम से जाना जाता है। इस तत्व का मधुमेह विरोधी प्रभाव होता है। अध्ययनों के अनुसार, इसमें रक्त शर्करा के स्तर को 30 प्रतिशत तक कम करने की क्षमता है। इसके अलावा यह डायबिटीज के कारण होने वाली समस्याओं को भी कम करता है। इसमें बहुत कम ग्लाइमिक इंडेक्स होता है। इसके लिए रोजाना 5-7 जामुन खाएं और एक चम्मच जामुन के बीज के पाउडर को एक कप गर्म पानी में मिलाकर दिन में दो बार पीने से भी लाभ होता है। पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद- जामुन न केवल शुगर को नियंत्रण में रखता है, वहीं पाचन तंत्र भी बहुत फायदेमंद होता है। जामुन खाने से पेट से जुड़ी कई समस्याएं दूर होती हैं। जामुन में कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम और विटामिन सी जैसे कई तत्व होते हैं जो आपके शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। दिल की बीमारियों के लिए फायदेमंद- जामुन में पोटैशियम की मात्रा अधिक होती है। 100 ग्राम जामुन के सेवन से शरीर को 55 मिलीग्राम पोटैशियम मिलता है। यह दिल का दौरा, उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक आदि के जोखिम को कम करता है। इसके अलावा, जामुन में कई तत्व होते हैं जैसे कि ऐलिक एसिड, एंथोकायनिन जो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखते हैं। हीमोग्लोबिन बढ़ाता है - जामुन हड्डियों के साथ-साथ खून के लिए भी फायदेमंद है। जानवरों के लिए, जामुन की खपत संजीवनी जड़ी बूटी के समान है। एक अध्ययन से पता चला है कि जामुन के नियमित सेवन से रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है।