एल्यूमीनियम के बर्तनों में खाना पकाने से कई कैंसर जैसी बीमारियां होती हैं

दुनिया के लगभग 60 प्रतिशत बर्तन एल्यूमीनियम सेही  बने हैं क्यों की वह अन्य धातुओं की तुलना में सस्ता और टिकाऊ होता है।

करीब से देखने के बाद, आप पाएंगे कि एल्यूमीनियम के बर्तनों में बने भोजन का रंग कुछ बदलता है। आजकल हमारे घरों में ज्यादातर बर्तन एल्युमीनियम से बने होते हैं। पूरी दुनिया की बात करें तो दुनिया के लगभग 60 प्रतिशत बर्तन एल्युमिनियम से बने हैं। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि वे अन्य धातुओं की तुलना में सस्ते और अधिक टिकाऊ होते हैं, और गर्मी के अच्छे संवाहक भी होते हैं। एल्युमीनियम के बर्तन सस्ते हो सकते हैं, लेकिन हमारे स्वास्थ्य पर इनका बहुत अधिक दुष्प्रभाव होता है। इन बर्तनों में पके हुए भोजन का सेवन करने से औसत मानव शरीर पर प्रति दिन 4 से 5 मिलीग्राम एल्यूमीनियम का उत्पादन होता है। मानव शरीर शरीर से इतना अधिक एल्यूमीनियम बाहर निकालने में सक्षम नहीं है। करीब से देखने के बाद, आप पाएंगे कि एल्यूमीनियम के बर्तनों में बने भोजन का रंग कुछ बदलता है। इसका स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है क्योंकि एल्यूमीनियम भोजन, विशेष रूप से टमाटर जैसे अम्लीय पदार्थों के साथ प्रतिक्रिया करता है। प्रतिक्रिया करने से, यह एल्यूमीनियम हमारे शरीर में पहुंचता है। अगर हम सालों तक एल्युमीनियम में पका हुआ खाना खाते रहें, तो यह एल्युमीनियम हमारी मांसपेशियों, किडनी, लिवर और हड्डियों में जमा हो जाता है, जिसकी वजह से कई गंभीर बीमारियाँ घर कर जाती हैं। इसलिए, भोजन हमेशा लोहे या मिट्टी के बर्तन में पकाया जाना चाहिए। यह आपके भोजन और आपके स्वास्थ्य दोनों के स्वाद के लिए अच्छा है।