ब्रेड, बन्स, बर्गर और पिज्जा के नमूनों में कैंसर पैदा करने वाले तत्व 84 प्रतिशत पाए गए

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) की जांच में पाया गया कि देश में 32 प्रसिद्ध ब्रेड के नमूनों में 84 प्रतिशत में कैंसर पैदा करने वाले तत्व पाए गए।
सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की जांच में ब्रेड में कैंसर पैदा करने वाले तत्व पाए गए। सीएसई की जांच के अनुसार, 38 लोकप्रिय ब्रांडों की ब्रेड, बन्स, रेडी-टू-ईट बर्गर और पिज्जा में 80 प्रतिशत पोटेशियम ब्रोमेट और आयोडेट पाए गए। पोटेशियम ब्रोमेट कार्सिनोजेनिक है जबकि आयोडेट थायरॉइड रोगों का कारण बनता है।
जांच के अनुसार, ब्रेड के भारतीय उत्पादक आटे में पोटेशियम ब्रोमेट और आयोडेट का उपयोग करते हैं। सीएसई द्वारा जारी बयान के अनुसार, "कई देशों में रोटी बनाने में इन सामग्रियों का उपयोग निषिद्ध है। ये तत्व स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। लेकिन भारत में इनके उपयोग पर प्रतिबंध नहीं है।
हमने 84 प्रतिशत नमूनों में पोटेशियम ब्रोमेट या आयोडेट पाया। । हमने इन नमूनों के लेबल की जांच की और इन मामलों के विशेषज्ञों और निर्माताओं से बात की। "यह जांच सीएसई के प्रदूषण निगरानी प्रयोगशाला द्वारा की गई थी। सीएसई ने पोटेशियम ब्रोमेट और आयोडेट के उपयोग पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की मांग की है।
पोटेशियम ब्रोमेट यूरोपीय संघ, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, चीन, श्रीलंका, ब्राजील, नाइजीरिया, पेरू और कोलंबिया में प्रतिबंधित है। जांच के अनुसार, रोटी बनाने वाले भी इन सामग्रियों के बारे में लेबल पर नहीं लिखते हैं। रिपोर्ट सामने आने के बाद स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने जांच का आश्वासन दिया।