हमारे शरीर में यूरिक एसिड क्यों बढ़ जाता है, जानिए इसके शुरुआती लक्षण और कारण

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अगर शरीर में यूरिक एसिड के स्तर के बढ़ने के शुरुआती कारणों की पहचान करने के लिए सावधानी बरती जाए तो यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ने से रोका जा सकता है।

खराब आहार और बदलती जीवनशैली यूरिक एसिड बढ़ने के मुख्य कारण हैं। आजकल खाने में जंक फूड और घी-तेल की खपत बढ़ रही है, इसलिए यूरिक एसिड के रोगियों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अगर शरीर में यूरिक एसिड के स्तर में वृद्धि के शुरुआती कारणों की पहचान करने के लिए सावधानी बरती जाए तो यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ने से रोका जा सकता है। डॉक्टरों का कहना है कि यूरिक एसिड आनुवांशिक भी हो सकता है।

साथ ही, यूरिक एसिड बढ़ने का एक बड़ा कारण किडनी की खराबी भी है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, उच्च रक्तचाप यूरिक एसिड की समस्या पैदा कर सकता है। थायराइड के अचानक बढ़ने या घटने से यूरिक एसिड की बीमारी हो सकती है। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि बढ़ते मोटापे के कारण व्यक्ति यूरिक एसिड की चपेट में आ सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि बार-बार पेशाब करने से यूरिक एसिड का खतरा बढ़ जाता है।

घी तेल की अत्यधिक खपत, भोजन में मजबूत मिर्च-मसाले और आटे का उपयोग यूरिक एसिड बढ़ने का एक प्रमुख कारण है। फिटनेस विशेषज्ञों का कहना है कि यूरिक एसिड रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि का कारण हो सकता है। जिन लोगों के शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है उन्हें सीने में जलन की शिकायत होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि यूरिक एसिड के बढ़ने से जोड़ों और हड्डियों के दर्द की समस्या बढ़ जाती है। जिनके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है, उनके हाथ और पैर जलने लगते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि पेशाब करने में समस्या होना भी यूरिक एसिड की बीमारी का एक लक्षण है। यूरिक एसिड के शुरुआती लक्षणों में गले में खराश और जलन शामिल है। जब यूरिक एसिड बढ़ने लगता है, तो किडनी को समस्या होने लगती है। जिन लोगों का यूरिक एसिड बढ़ जाता है, उन्हें सुबह में एसिड होने की समस्या का सामना करना पड़ता है। बार-बार बुखार आना, ठंड लगना और थकान महसूस होना यूरिक एसिड बढ़ने का लक्षण है।